राजनीतिक क्षति : पूर्व मंत्री राजस्थान सरकार महिपाल मदेरणा नहीं रहे

 राजनीतिक क्षति : पूर्व मंत्री राजस्थान सरकार महिपाल मदेरणा नहीं रहे

Mahipal Maderna | पूर्व मंत्री महिपाल मदेरणा नहीं रहे


झलको न्यूज़ डेस्क, जोधपुर। जोधपुर की राजनीति में मदेरणा परिवार का स्थान रहा है। आज सुबह मदेरणा परिवार में राजनीतिक स्तंभ की भूमिका निभाने वाले महिपाल मदेरणा का निधन हो गया। वो लंबे समय से कैंसर बीमारी से ग्रसित थे जिसका इलाज चल रहा था। 

उनके निधन की सूचना के बाद समूचे प्रदेश शोक की लहर छा गई। परिवार में गमगीन माहौल है। निधन पश्चात इनका पार्थिव शरीर सुबह 10:00 बजे पैतृक गांव चाडी ले जाने की तैयारी की जा रही है। वहीं पर मदेरणा का अंतिम संस्कार किया जाएगा।


विगत 30 वर्षों से राजनीति में सक्रिय है मदेरणा परिवार


प्रदेश की राजनीतिक पटल पर मदेरणा परिवार का महत्वपूर्ण स्थान रहा है। दिवंगत महिपाल मदेरणा भी अपने जीवन का महत्वपूर्ण राजनीतिक पदों पर रहे। कांग्रेस के दिग्गज नेता परसराम मदेरणा से पारिवारिक विरासत में मिली राजनीतिक पेठ से वर्ष 1982 में प्रथम बार जोधपुर के जिला प्रमुख बने। जिला प्रमुख से विधायक और मंत्री तक का का सफर तय किया, अंतिम कार्यकाल वर्ष 2008 में चुनी गई अशोक गहलोत सरकार में जलदाय विभाग कैबिनेट मंत्री के रूप में रहा। 


राजस्थान की राजनीति में राजनीतिक भूचाल ने मदेरणा परिवार की राजनीतिक साख हिला कर रख दी। जीवन के अंतिम पड़ाव में वो 10 वर्षों तक जेल में रहे। 1 दशक से अधिक समय तक राजस्थान की राजनीति से लगभग दूर रहे मदेरणा परिवार को विगत विधानसभा चुनावों में पुन: विधायकी की मिली। 

जिस पद से महिपाल मदेरणा ने राजनीति की शुरुआत की उसी पर अंतिम सांस ली। दरअसल महिपाल मदेरणा ने जोधपुर जिला प्रमुख बनकर राजनीतिक जीवन की शुरुआत की और इस बार के पंचायती राज चुनावों में इनकी पत्नी लीला मदेरणा जोधपुर की जिला प्रमुख बनी है और वो जिला प्रमुख प्रतिनिधि थे।


0/Post a Comment/Comments

Advertisement