दुखद : कलयुग के देवता सिद्ध श्री नखतबन्ना के पिता ठा. कान सिंह सोलंकी जी का हुआ देवलोकगमन

 दुखद : कलयुग के देवता सिद्ध श्री नखतबन्ना के पिता ठा. कान सिंह सोलंकी जी का हुआ देवलोकगमन

दुखद : कलयुग के देवता सिद्ध श्री नखतबन्ना के पिता ठा. कान सिंह सोलंकी जी का हुआ देवलोकगमन



 झलको न्यूज़, बीकानेर।


आज कलयुग के देव सिद्ध श्री नखतबन्ना के पिता ठा. कान सिंह सोलंकी जी का देवलोकगमन हो गया। कोलायत विधायक व मंत्री भंवसिंह‌ भाटी ने जताया दुःख।

ऐसी मान्यता है कि सर्प दंश के रोगी को सिद्ध श्री नखतबन्ना के मंदिर ले जाने से उसको स्वास्थ्य लाभ मिलता है।


नखतबन्ना का इतिहास


नखत बन्ना सा जीवन कथा :  राजस्थान के जेैसलमेर जिले के गाँव गिरासर की सोलंकियों की ढ़ाणी निवासी मेहजल जी के सुपुत्र गोविंद सिंह जी सौलंकी (भाणगोत) के कोई औलाद नहीं थी | वे राजपूत जाति से थे व बाबा निरंजन(पुष्कर) ने कृपा  करके धूणे की भभूती दी थी | 

भभूती के प्रताप से गोविंद सिंह सोलंकी के भभूतसिंह, शेर सिंह, नरसिंह तथा श्रृंगारकंवर(सिणगारो) ने जन्म लिया था | भभूता सिद्ध जी के काली नाडी मे शरीर त्यागने के पश्चात जो सगपण भभूता सिद्ध के लिए किया गया था | वहाँ उनके छोटे भाई शेर सिंह का सगपण गाँव चोयण पीड़ीयारो के यहाँ विवाह शुभ लगन मे हुआ था | श्री शेर सिंह जी के पुत्र अलसी सिंह जी के तीन पुत्र हुए | कानसिंह जी, जबर सिंह जी तथा प्रहलाद सिंह जी | प्रहलाद सिंह जी के शादी के दो महीने बाद ही स्वर्गवास हो गया | कानसिंह जी के सबसे पहले पुत्री ने जन्म लिया जिसका नाम सुगना कंवर रखा गया | दूसरे नंबर पर नखत सिंह बन्ना सा ने जन्म लिया | उनके बाद भगवान सिंह जी, भीख सिंह जी, रूप सिंह जी, बाबू सिंह जी और जीवण सिंह जी पाँच भाइयों ने जन्म लिया | ये सात बहन भाई थे | कानसिंह जी के परिवार मे मांस – मदिरा का नाम तक नहीं लिया जाता अगर कोई संबंधी मदिरा पिया हुआ मिल जाए तो ये लोग उससे कोई बात नहीं करते ये उनकी विषेश नियम धारा है | दादी सा श्रीमति बादलकंवर के बताए अनुसार कानसिंह जी की धर्म पत्नी का नाम सीरिया देवी था जो कि ग्राम गिरासर की थी | नखत बन्ना सा का जन्म २०११ मे फागुन लगते तीज मंगलवार को हुआ था | नखत बन्ना सा सौलंकी ढ़ाणी की मिट्टी में खेल कूदकर बड़े हुए और २-३ साल होमगार्ड मे भी रहे गाँव मे वफादार – ईमानदार होने के कारण संवत २०२५-२६ मे गेंग का पूरा काम नखत बन्ना सा को सौंपा गया था और उनके अंतिम समय तक अकाल राहत के मिस्टरोल नखत बन्ना सा के पास थे |

एक बार नखत बन्ना सा के बीमार होने के कारण काम पर ना जाने के कारण चार-पाँच बन्ना सा की ढ़ाणी आ पहुंचे और हाथ जोड़कर कहा कि बन्ना सा आपके काम पर ना होने के कारण पाँच-सात दिन से हमारी हाजरी भी नहीं भरी गई, तब नखत बन्ना सा ने जवाब दिया कि आप लोग अपनी हाजरियों का मिस्टरोल ले जाओ ओर हमारी बाट मत देखना | हमे तो अब सर्प पकड़ने हैं और हाथ से ऊपर की तरफ इशारा किया “ वो जा रहा है सर्प ” ये बन्ना सा के आंखरी शब्द थे | जब गाँव वालों को मिस्टरोल ले जाने को कहा तो अनपढ़ लोग कहने लगे कि आपके इन मिस्टरोल मे झूठ सच होगी तो हम गरीब लोग फंस जाएंगे | लेकिन बन्ना सा ने उनको कहा कि इसमे रत्ती भर भी झूठ नहीं है तुम इन्हे ले जाओ | फिर तीसरे दिन संवत २०२६  के दसवें दिन चैत्र माह लगते ही वीरवार को साधारण बुखार मे अपना शरीर त्याग दिया | घर मे हाहाकार मच गया | घर मे सबसे बड़ा लड़का वो भी १८ साल की उम्र मे मामूली बुखार मे चल बसे इससे बढ़कर ओर क्या दुख होगा ? कान सिंह जी को इससे बड़ा झटका लगा उनका मन विचलित हो गया | उन्हे इस बात का बेहद अफसोस था कि ४० साल से दादा भभूता सिद्ध की सेवा तन मन धन से कर रहे थे ओर मेले मे हर साल कालिया नाड़ी हाजिर हुआ जिसका मुझे आज ये फल मिला लेकिन भगवान की मरजी के आगे किसकी चलती है | 

सेवा पूजा अब दादी ने संभाली लेकिन दादी सा ने उस गम को भुलवा दिया और कहा कि सेवा मत छोडना तुम्हारे घर के आगे मेला लगेगा | तब नखत बन्ना सा के पिता को कुछ आश्वासन मिला |

संवत २०३६ अपनी बहन सुगनाकंवर के मुख बोलकर कहा कि मैं नखत हूँ ओर मेरा स्थान बोरटी(बेर की झाड़ी) के पास बनाओ | एक परिवार मे बच्चे को सर्प ने काट लिया था और वह मर गया था | तब श्री नखत बन्ना सा स्वयं वहाँ मोलिया साफा और हाथ में चुटिया रस्सी लेकर पहुंचे ओर कहा कि मुझे पानी पिलाओ जो वहाँ मोजूद लोगों ने कहा कि भाई यहाँ तो इकलौता लड़का मरा पड़ा है आप पास वाले घर मे पानी पिलो बन्ना सा आँगन मे पहुंचे ओर शव के ऊपर से कपड़ा हटाते हुए कहा कि भाई उठजा इतनी गहरी नींद मत लो, लड़का जीवित खड़ा हो गया और सभी लोग हैरान रह गए ओर पूछने लगे कि आप कौन है ? तब उन्होने कहा कि मैं कान सिंह जी सोलंकी का लड़का हूँ ओर चारणवाला नहर के पास मेरी ढ़ाणी है, आपका भला हुआ है तो ढ़ाणी के पास मे बोरटी वृक्ष कि फेरी लगाने इस लड़के को ले आना | इतना कहकर बन्ना सा ने पानी नहीं पिया और घर के बाहर चले गए |  वे लोग पूछते-पूछते गए और फेरी लगाई तब से वह लड़का भादवे की शुक्ल पक्ष की चौथ को वहाँ फेरी लगाने आता है और हमेशा आता रहेगा |


नखत बन्ना सा के चमत्कार सुनकर अंधी दादी सा बादल देवी ने कहा “नखतू, लोग कहते है हमारा भला होता है और नखत सिद्ध है, तो मुझे भी आंखे दे दे, मुझे भी विश्वास हो जाएगा की हमारा नखत सिंह सिद्ध हो गया है “ दूसरे दिन प्रातः तीन बजे दादी सा को नखत सिंह ने पुजारी दादीसा को बोला उठ जाओ तुम्हें दिखाई देगा ओर बिलोना शुरू कर दे | दादी सा ने पूछा तू कौन है भाई ? तो बन्ना सा ने जवाब दिया कि मैं नखत हूँ | लेकिन दादी को विश्वास नहीं हुआ और उन्होने कहा वह तो १० साल पहले संसार छोड़ चुका है अब नखतू कहाँ ? दादी सा आप बाहर आजाओ आपने कल याद किया था कि नखत सिद्ध होवे तो मुझे भी आंखे क्यों नहीं देता – मैं आपको आंखे देने आया हूँ | तब दादी सा उठी ओर उन्हें दिखने लगा था | वे बड़ी खुश हुई, सवेरे जब पोतों की बहुए उठी तो दादी सा को देख हंस पड़ी ओर फिर उन्हे हैरानी हुई जब उन्हे मालूम हुआ कि बन्ना सा ने दादी को आंखे दी हैं | संवत २०३६ भादवे की चाँदनी छठ का कालिया नाड़ी का मेला पूरा करके जब कानसिंह जी घर पहुंचे तब दादी सा बाहर आ गई और अपनी आप बीती सुनाई | तब एक दिन काको सा जबर सिंह जी ने कहा मेरी गाय तीन साल से गायब है अगर वो मिल जाए तो नखत सिद्ध का स्थान बना देंगे और उनकी गाय भी मिल गई | उसे देखकर सभी ने बड़ा अचरज किया और मान गए कि नखत सिद्ध है लेकिन स्थान को बात को भूल गए | दो दिन बाद जबर सिंह के लड़के के पेट मे दर्द व घुटन सी हो गयी | तब रामूजी सोनार को बुलाया गया | रामूजी सोनार और नखत बन्ना सा में बड़ी घनिष्ठता थी | शुरू मे रामूजी व बन्ना सा ने फोटो भी साथ – साथ खिंचवाया हुआ था | रामूजी सोनार के सगपण मे ऊंट भी नखत बन्ना सा ही लेकर गए थे | रामूजी सोनार ने जबर सिंह के लड़के के पेट मे घुटन देखकर कानजी की ढ़ाणी में ज्योत करने को कहा, घरवालों ने ज्योत करके रामूजी को दे दी तब नखत बन्ना सा ने बहन सुगना के मुख से कहा कि मेरा स्थान आपने कहकर भी नहीं बनवाया है | क्या बात है ? जब जबर सिंह व कान सिंह ने कुछ दिनों की छूट लेकर स्थान बनाना शुरू किया वहाँ जागरण लगाया | धीरे – धीरे यह मेला विशाल होने लगा | पास मे एक नाई की लड़की के पेट मे फोड़ा हो गया था | वह बस मरने ही वाली थी कि किसी ने सलाह दी कि बन्ना सा की फेरी व प्रसाद बोल दो, उसने वैसा ही किया उसके पेट मे से एक फिट लंबा जालधर निकाल गया और तीन दिन मे ठीक हो गई |

वर्तमान में कानसिंह जी की ढ़ाणी (चारणवाला, 80RD के पास) सिद्ध श्री नखत बन्ना का भादवा और माघ सुदी पंचमी को विशाल मेला भरता है जहाँ लाखों श्रद्धालु दर्शन करने आते हैं।

    

0/Post a Comment/Comments

Advertisement